Children Health Health and Diseases

बच्चों में कैल्शियम की कमी के कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

Written by Amisha Bharti

Bacchon Mei Calcium Ki Kami Ke Karan aur Unse Kaise Bache

कैल्शियम तत्व से आप सभी परचित है और आपने डॉक्टर से इसके बारे में जरुर सुना होगा. खासकर उन लोगों ने तो जरुर सुना है जिन्हें हड्डियों की प्रॉब्लम है जैसे घुटनों या पैरों में दर्द रहता है, हाथों में दर्द रहता है. तब डॉक्टर उन्हें हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्शियम युक्त दवाईयां देता है.

वेसे इनकी सबसे ज्यादा जरूरत वयस्कों और बुजुर्गों को होती है लेकिन बड़ो की तरह बच्चों को भी पोषक तत्वों की पर्याप्त जरूरत होती है फिर चाहे वो स्तनपान से पूरी हो या किसी ख़ास आहार से. अगर किसी कारण से बच्चे को पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते है तो उसके शरीर में महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की कमी हो जाती है.

क्यों है कैल्शियम ज़रूरी?

यूँ तो सभी तरह के पोषक तत्व, विटामीन और मिनरल्स महत्वपूर्ण है लेकिन कैल्शियम इन सबमे सबसे महत्वपूर्ण तत्व है. इसलिए बच्चों में कैल्शियम की कमी को अनदेखा करना हानिकारक साबित हो सकता है. हड्डियों की मजबूती, मांसपेशियों की मजबूती, नर्वस सिस्टम को मजबूत करने आदि में कैल्शियम की बहुत जरूरत होती है.

इसलिए आपको भी इस बात का ख़ास ध्यान रखना है की अपने बच्चों के आहार में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम हो. अगर बचपन में सही मात्रा में कैल्शियम का सेवन कराया जाए तो बड़े होने पर हड्डियों से संबधित समस्या नहीं होती है. आईये जानते है बच्चों में कैल्शियम के कारण, लक्षण, इलाज और बचाव के उपायों के बारे में.

बच्चों में कैल्शियम की कमी के कारण | Causes of Calcium Deficiency in Hindi

  • जन्म के दौरान ओक्सिजन की कमी होना.
  • अगर माँ शुगर से ग्रसित है तो बच्चे में कैल्शियम की कमी हो सकती है.
  • अगर बच्चे को शुरुआत में गाय का दूध पिलाया जाता है तो फास्फोरस की अधिक मात्रा के कारण बच्चे में कैल्शियम की कमी हो सकती है.
  • अगर बच्चे में विटामीन D की कमी है तो कैल्शियम का लेवल कम हो जाता है क्योंकि हड्डियों की मजबूती के लिए विटामीन D बहुत जरुरी है.
  • अगर माँ में विटामीन D की कमी है या कैल्शियम का स्तर कम है और वो बच्चे को स्तनपान करा रही है तो तो बच्चे में भी कैल्शियम की कमी हो सकती है.
  • अगर जन्म के दौरान बच्चे कोकैल्शियम युक्त आहार ना मिले तो.

बच्चों में कैल्शियम की कमी के लक्षण | Symtpoms of Calcium Deficiency in Hindi

बच्चों-में-कैल्शियम-की-कमी-के-लक्षण
  1. नींद में प्रॉब्लम होना
    बच्चे को रात को अगर नींद नहीं आती है या रात को सोते समय बहुत ज्यादा पसीना आता है तो यह कैल्शियम की कमी के लक्षण है. कैल्शियम की कमी होने पर बच्चे को नींद लेने में बहुत दिक्कत आती है.
  2. बहुत ज्यादा रोना
    बड़े दर्द को सहन कर सकते है लेकिन बच्चों के लिए सहन करना मुश्किल है. अगर आपका बच्चा बहुत ज्यादा रोता है तो इसका मतलब उसके हड्डियों में दर्द हो सकता है और ऐसा कैल्शियम की कमी के कारण होता है. अगर आपका बच्चा बिना किसिस वजह के ज्यादा रोता है तो एक बार डॉक्टर को जरुर दिखाएँ.
  3. दान्तों में प्रॉब्लम होना
    जिन बच्चों को कैल्शियम की कमी होती है उनके दांत देरी से निकलते है. ऐसे में अपने डॉक्टर से जल्दी ही सम्पर्क करें.
  4. भूख नहीं लगना
    जिन बच्चों में कैल्शियम की कमी होती है उन्हें भूख कम लगती है और कई बार तो बिलकुल ही कुछ नहीं खाते है. उनकी भूख में निरंतर कमी होने लगती है.
  5. इम्यून सिस्टम कमजोर होना
    जिन बच्चों में कैल्शियम की कमी होती है उनका इम्यून सिस्टम यानी उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है और वे जल्द ही बीमारियों की चपेट में आ जाते है.
  6. मांसपेशियों में खिंचाव आना.
  7. हार्ट रेट कम होना या बराबर नहीं रहना.
  8. ब्लड प्रेशर कम होना.
  9. दिमाग में ओक्सिजन की सप्लाई कम होना.
  10. होंठ हिलाना.
  11. आँखे झपकाना.
  12. बच्चे को बुखार के दौरान झटके आना.
  13. हड्डियों या जोड़ों में किसी तरह की विकृति आना.
  14. शरीर में दर्द होना.
  15. डर लगना.

बच्चों में कैल्शियम की कमी होने पर इलाज | Remedies to Cure Calcium Deficiency in Hindi

बच्चों-में-कैल्शियम-की-कमी-होने-पर-इलाज
  • अपने बच्चे को एक साल तक गाय का दूध ना पिलायें क्योंकि इसमें फास्फोरस अधिक होता है जिसकी वजह से बच्चे में कैल्शियम की कमी होने लगती है.
  • अपने बच्चे को खुद का ही दूध पिलायें. स्तनपान से ही बच्चे को पर्याप्त पोषक तत्व मिलेंगे. दूध में ही सबसे ज्यादा कैल्शियम होता है.
  • अगर आपको शुगर की बीमारी है तो बच्चे को स्तनपान करवाने से पहले एक बार डॉक्टर से सम्पर्क जरुर करें.
  • अपने बच्चे को विटामीन D युक्त सप्लीमेंट और आहार दे.
  • बच्चे को सुबह-सुबह सूरज की रौशनी में बैठाएं जिससे बच्चा विटामीन D ले सके. पर्याप्त विटामीन D से कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाती है.
  • अपने बच्चे को ऐसे आहार दे जिसमे कैल्शियम हो और इसके लिए आप डॉक्टर से सम्पर्क जरुर करें.

इस पोस्ट में आपने अच्छे से जान लिया होगा की कैल्शियम की कमी के कारण क्या है, इसके लक्षण क्या है और किस तरह से कैल्शियम की कमी को दूर किया जा सकता है.

विशेष टिप्पड़ी:

एक बच्चे के लिए माँ का दूध बहुत जरुरी होता है इसलिए बच्चे को कम से कम एक साल तक ब्रेस्टफीडिंग ही कराएँ. माँ के दूध में कैल्शियम के अलावा भी बहुत सारे पोषक तत्व होते है जिसकी बच्चे को जरूरत होती है.

उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे ताकि हम आगे भी ऐसी अच्छी से अच्छी पोस्ट लिख सके.

About the author

Amisha Bharti

मैं अमीषा पेशन से एक हेल्थ ब्लॉगर हु. मैं अपने ब्लॉग में लोगों को बीमारियों से मुक्ति दिलाने के तरीकों के बारे में बताती हूँ. आप मेरे ब्लॉग से हेल्थ से संबधित सभी तरह की जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment