Gharelu Nuskhe Treatments

फंगल इन्फेक्शन ट्रीटमेंट इन हिंदी | Fungal Infection Treatment at Home in Hindi

fungal-infection-treatment-prevention-in-hindi
Written by Surbhi

इंसानो में फंगल इन्फेक्शन आम बात है। फंगल इन्फेक्टिन तब होता है जब आपके शरीर के किसी हिस्से में फंगस लग जाये और वो इतनी बड़ी हो जाती है की आपके शरीर  का इम्यून सिस्टम उससे लड़ नहीं पाता है।  कुछ ऐसी फंगस भी होती है जो शरीर में स्वाभाविक रूप से रहती है। इनमे से कुछ उपयोगी होती है और कुछ शरीर के लिए खतरनाक होती है। जब यह खतरनाक फंगस आपके शरीर पर हमला करती है तो उनको मरना थोड़ा मुश्किल साबित होता है। इसके साथ साथ जो व्यक्ति स्वस्थ होने की कोशिश कर रहा है उससे भी और संक्रमित कर देती है। आइए जानते है की अब इन फंगल इन्फेक्शन्स से कैसे बच सकते है।

फंगल इन्फेक्शन्स से कैसे बचें? | How to Prevent Fungal Infections in Hindi?

नीचे दिए हुए कुछ बातों का ध्यान रखने से आप कई तरीकों के फंगल इन्फेक्शन्स से बच सकते है। आइए जानते है यह बातें क्या है :

  1. जिन जगहों पर ठण्ड और नमी हो वहां पर अपने पैर एक दम साफ़ रखें। पैरों को साफ़ रखने के लिए अपने मौजे हर रोज़ बदलें। पैरों में जूते  हमेशा अपने सही साइज के हिसाब से पहने। ज्यादा टाइट जूते नहीं पहने।
  2. कई जगहों पर नंगे पैर नहीं जाएं। जैसे की बाथरूम, सार्वजनिक स्नान करने की जगह और जिम में कभी बिना चप्पलों के नहीं जाएं।
  3. अपनी त्वचा को हमेशा साफ़ रखें। नियमित रूप से अपना चेहरा धोएं ताकि आपका चेहरा हमेशा साफ़ रहे।
  4. अपनी निजी चीज़ों का इस्तेमाल सिर्फ खुद तक ही रखें। दूसरे की निजी चीज़ों के इस्तेमाल से भी फंगल इन्फेक्शन हो सकता है। अथवा अपनी निजी चीज़े भी किसी को नहीं देनी चाहिए।
  5. अगर आपका वजन ज्यादा , यानी अगर आपको मोटापा है तो अपना चेहरा हमेशा सूखा रखें। फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए अपने चहरे को हमेशा अच्छे से सुखाएं।
  6. अपने नाखुनो को ज्यादा बढ़ने नहीं देना चाहिए। उनका ऊपरी हिस्सा हमेशा साफ़ रखें। अगर आपके नाख़ून खराब हो रहे है तो उनको काटने के लिए अलग नेल कटर का इस्तेमाल करे। सामान्य नाखुनो को फिर इस नेल कटर से नहीं काटें।
  7. अगर घर में किसी और को फंगल इन्फेक्शन है तो उनका इलाज़ जल्द करवाएं। फंगल इन्फेक्शन को अनदेखा नहीं करना चाहिए।
  8. अगर आप किसी फर्श पर नंगे पैर चलते है तो उस फर्श को रोज़ अच्छे से साफ़ करें। ऐसा करके आप पैरों में होने वाले फंगल इन्फेक्शन्स से बच सकते है।
  9. ज्यादा पुराने जूते और चप्पल नहीं पहनने चाहिए। किसी और के जूते और चप्पल भी नहीं पहनने चाहिए। यह सब कार्य आपको फंगल इन्फेक्शन से बचने में मदद करते है।
  10. हमेशा साफ़ सुतरी पैंट और अंडरवियर पहना चाहिए। जांघ और जननांग को जोड़ने वाले हिस्से को हमेशा साफ़ और सूखा रखना चाहिए। ऐसा करने से इन जगहों पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन से आप बचे रहते है।
  11. अगर किसी को शरीर के किसी हिस्से में जैसे की रान में फंगल इन्फेक्शन हो जाये तो उस व्यक्ति को नियमित रूप से फंगसरोधी शैम्पू का इस्तेमाल करना चाहिए।

फंगल इन्फेक्शन का इलाज कैसे करें? | How to Treat Fungal Infections in Hindi?

आमतौर पर फंगल इन्फेक्शन का इलाज आसान होता है।

फंगल इन्फेक्शन के इलाज में एंटी फंगल दवाइयाँ मुख्या भूमिका निभाती है। यह अन्य रूप में मिलती है जैसे की एंटी फंगल क्रीम, लेप या मरहम, त्वचा पर लगने वाला लोशन, खाने वाली दवाइयाँ और नसों के द्वारा दी जाने वाली दवाइयाँ

इन सभी दवाइयों का उपयोग संक्रमण के प्रकार और संक्रमण की जगह पर किया जाता है। जैसे की अगर आपको योनि में होने वाला यीस्ट संक्रमण है तो जेल या क्रीम का इस्तेमाल वहीँ किया जाता है। ओरल थ्रश के वक़्त गले की खराश दूर करने वाली गोलियां दी जाती है। इसके साथ साथ कई बार माउथ वाश और टेबलेट का इस्तेमाल भी किया जाता है। स्प्रे, लेप या पाउडर की मदद से अथलेटिस फुट का प्राय किया जाता है। कुछ गंभीर फंगल इन्फेक्शन्स का इलाज नसों में देने जानी वाली दवाइयों या ओरल दवाइयों से किया जाता है।

About the author

Surbhi

मेरा नाम सुरभि है और ब्लोगिंग मेरा पेशन है. में अपने ब्लॉग पर आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताती हु. आप सभी जानते है की आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खे हमारे लिए कितना फायदेमंद है और इनका किसी तरह का साइड इफ़ेक्ट नहीं है. इसलिए में अपने ब्लॉग पर आपको आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताउंगी ताकि आप इन्हें अच्छे से जान सके और बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के खुद में बदलाव ला सके.

Leave a Comment