Children Health Health and Diseases

Children’s Hair Growth in Hindi- शिशुओं के बाल बढ़ाने के तरीके

ways-to-increase-childrens-health
Written by Amisha Bharti

कुछ शिशु जन्म के साथ बहुत घने बालो के साथ जन्म लेते है वहीं कुछ शिशु बिना बालो के।

लेकिन समय के साथ शिशु के बाल झड़ने लगते है और वो गंजा होने लगता है इसके पीछे कई कारण हो सकते है जैसे रिंग वार्म, हेयर पुलिंग आदि। अन्य कारणों में बच्चे की सही से देखभाल ना करना भी हैं।

बच्चे के बाल कैसे रहेंगे ये जीन्स और आनुवंशिक गुण पर भी निर्भर करता है इसलिए इस विषय को लेकर ज्यादा गम्भीर ना हो आपने गौर किया होगा कि पुराने समय मे बच्चो के बाल इतना नही झड़ते थे, क्योकि सयुंक्त परिवार के बीच बच्चा रहता था। और जैसे ही नवजात शिशु नींद से जागता था परिवार का कोई ना कोई सदस्य उसे गोद मे लेकर खिलानेव,जउ लगता था ।

इससे बच्चे का सर लगातार बिस्तर से रगड़ नही खाता था,क्योंकि शिशु के सर की त्वचा बहुत कोमल होती है और बिस्तर की रगड़ से बाल आसानी से निकल आते है। केवल बाल ही नही झड़ते बल्कि शिशु का सर भी चपटा हो जाता है। तो आइए जानते है कुछ उपाय जिससे बच्चे के बालों की देखभाल अच्छे से की जा सके और बालों को झड़ने से रोकने के साथ साथ उनकी ग्रोथ भी बढ़ सके।

स्पेशल नोट बच्चो के स्वास्थय के लिए-

  • शिशु के बालों के लिए जो भी करना हो वो कम से कम 4 से 5 महीने के बाद करे, क्योंकि उससे पहले त्वचा ज्यादा ही नाजुक होती है इसलिए बच्चे पर कोई एक्सपेरिमेंट ना करे जन्म से लेकर 4 महीने तक आप केवल बालो के देखभाल कर सकती है इसके लिए ध्यान रखे कि बच्चे का सर लगातार एक ही पोजीशन में ना रहे।
  • उसकी सर की पोजीशन चेंज करती रहें। सबसे जरूरी की माँ अगर ब्रैस्ट फीड कराती है तो अपने खान पान का ध्यान रखे। क्योंकि इस समय बच्चे पर माँ के खान पान का सबसे ज्यादा असर होता है।
  • आयरन, विटामिन D, इन सबका भरपूर सेवन करे।

ध्यान रखने योग्य बातें

  • बच्चे के बालों को ज्यादा टाइट ना बांधे, इससे बालों की जड़े कमजोर होकर बाल झड़ने लगते है।
  • बच्चे के शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए उसे उचित मात्रा में पानी पिलाए( 6 महीने से छोटे शिशु को पानी ना दे)
  • बालो को बढ़ाने के लिए बच्चे के खान पान में अनावश्यक बदलाव ना करें।

बच्चों के बाल बढ़ाने के लिए उपाय- Home Remedies to Increase Child’s Hair

oiling-childrens-hair-for-hair-growth-in-hindi

1-तेल की मलिश

  • बच्चे के बालों में हल्के हाथों से मालिश करे, मालिश करने से रक्त संचार बढ़ता है जिससे बालो की जड़ो तक ऑक्सीजन तेजी से पहुंचती है। इससे स्कैल्प स्वस्थ रहता है और बाल तेजी से बढ़ते है। मालिश के लिए तेल चुनते समय जहाँ आप रहते है वहाँ के मौसम का ध्यान रखे। गर्मियों में गर्म तेल और सर्दियों में ठंडे तेल का प्रयोग ना करे।
  • मौसम के अनुसार आप नारियल सबसे बेस्ट होता है इसमें विटामिन B, C ,E और आयरन होता है।
  • बादाम, जैतून, जोजोबा, सरसो के तेल का प्रयोग करे। अगर आपके पास घर का बना गाय का घी हो तो हफ्ते में एक बार उसकी भी मालिश कर सकते है। बाजार का घी ना ले उसमे मिलावट का डर होता है।
  • आप महाभृंगराज और नीम के तेल का मिश्रण भी हफ्ते में एक बार लगा सकती है।
  • इसके अलावा कुछ चावल के दाने और 4-5 काली मिर्च के बीज को नारियल तेल में गर्म करते हुए मिलाए और ठंडा होने पर इस तेल का प्रयोग करे। एक कटोरी नारियल तेल को गर्म होने रखे उसमे एक दो पोथी लहसुन और आधा चम्मच अजवायन डाल कर पकाए। ये उपाय गर्मियों में 15 से 20 दिन में एक बार और सर्दियों में हफ्ते में एक बार करें। जब लहसुन भूरा हो जाए गैस बंद कर दे और तेल के ठंडा होने पर इस्तेमाल करे।

2- आहार

  • यदि बच्चा छोटा है और केवल दूध पर है तो माँ के खान पान का असर ही बच्चे पर होगा, ऐसी स्थिति में कुछ भी अनावश्यक करने की कोशिश ना करें। बच्चे के 6 महीने पूरे होने पर उसके खान पान पर ध्यान देना शुरू करे
  • बादाम में विटामिन E, प्रोटीन, एमिनो एसिड पाया जाता है तो यदि बच्चा छोटा है तो उसे पीस कर बादाम खिलाएं।
  • बड़े बच्चे को 2 से 3 बादाम भिगोकर खाने के लिए जरूर दे। कई रिसर्च कहती है कि विटामिन D बालो की ग्रोथ के लिए जरूरी होता है तो इसके लिए सुबह की धूप में शिशु को लेकर कम से कम 1 घण्टा अवश्य बैठे।
  • बैठने का समय मौसम के अनुसार तय करे, तेज धूप में शिशु को लेकर कतई ना बैठे। आपका बच्चा ब्रैस्ट फीड पर हो अथवा भोजन पर दोनो ही स्थिति में दूध और दूध से बनी चीज़े बालो कर लिए लाभदायक है।
  • इसलिए अपनी डाइट में डेरी प्रोडक्ट को शामिल करें, और बड़े बच्चे की डाइट में पनीर और दही जरूर रखे।
  • इसके अलावा एप्रीकॉट, कद्दू,सालमोन,खजूर,गाजर अंडे,और अखरोट शामिल करे।विटामिनB12 रिच फ़ूड दे।

3- साफ सफाई

  • बच्चे के सर पर जन्म के बाद कुछ गन्दगी रह जाती है, जो पपड़ी के रूप में जम जाती है। जिससे बालो की ग्रोथ बाधित होती है। इसके लिए बच्चे के सिर की साफ सफाई बहुत जरूरी है। तो जरूरी है हर दो तीन दिन के अंतराल पर बच्चे के सर को पानी से अच्छे से साफ करें। बच्चे के लिए वहीं शैम्पू इस्तेमाल करें जो बच्चो के लिए बने हो।
  • हल्के हाथों से शैम्पू करे और गुनगुने पानी का इस्तेमाल करे। सर को हल्का गीला रहने पर बेबी कोंब से हल्के हल्के कंघी करे, दांते वाले कंघे का प्रयोग ना करें। इससे धीरे धीरे कुछ दिन में पपड़ी निकल जायेगी । कंघी करने के बाद हल्के हाथ से मालिश कर दे।
  • बच्चे के बालों और सिर की त्वचा को संक्रमण से दूर रखने के लिए सेब का सिरका(एप्पल साइडर विनेगर) भी मददगार है। एक कप पानी मे 2 चम्मच सेब का सिरका मिलाकर हल्के हाथ से बच्चे के बालों और स्कैल्प पर लगाये, 5 से 10 मिनट लगा रहने दे फिर सौम्य शैम्पू से धो दे।

4- सुलझाना और ब्रशिंग करना

  • बच्चे के बालो को ज्यादा उलझने ना दे, जल्दी जल्दी शैम्पू ना करें, ऐसा करने से बालों का प्राकृतिक तेल खत्म होता है और बाल रूखे और बेजान हो जाते है।
  • दिन में कम से कम दो बार कंघी करें,बालो की गांठे ना बनने दे,बीड्स वाले कंघे का इस्तेमाल करें। उलझे बालो को सावधानी से धीरे धीरे सुलझाए, जल्दबाजी ना करें।

5- एलोवेरा

  • बालो को बढ़ाने में एलोवेरा काफी फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन A ,C ,E होता है जो बच्चो के स्कैल्प के PH को बैलेंस करता है, जिससे बाल झड़ना रूक जाते है।
  • इसके लिए एलोवेरा जेल को बच्चों के सिर पर हल्के हाथ से मले, 10 मिनट छोड़े फिर सौम्य शैम्पू से धो दे एलोवेरा जेल की कुछ बूंदे आप तेल या शैम्पू में मिला कर भी लगा सकती है।

6- आंवला

  • आंवला में विटामिन C होता है यह बालों को केवल झड़ने से नही रोकता बल्कि लम्बा और मजबूत बनाता है।
  • आंवला जूस को तेल में मिला कर लगा सकते है, थोड़े बड़े बच्चे को आंवला हल्का उबालकर, मैश करके खिला सकते है पर उसमे थोड़ी मिठास ऐड कर ले, आंवले का मुरब्बा भी लाभकारी है पर ज्यादा मीठा ना हो।

7- घर के बने कंडीशनर

  • घर मे यदि कंडीशनर बनाए तो उससे बेहतर कुछ नही है,बाहर के केमिकल वाले कंडीशनर केवल छोटे नही व्यस्को को भी नुकसान करते है इसके लिए शहद, जैतून के तेल का प्रयोग कर सकते है।
  • इसके अलावा पके केले,दही, एवाकाडो, नारियल का तेल ,जैतून का तेल मिलाकर भी कंडीशनर बना सकते है।
  • इसे बच्चो के बालों और सिर की त्वचा पर लगाए और 10 छोड़ कर गुनगुने पानी से धो दे।
  • कंडीशनिंग बालो का कंघी करना आसान बनाती है । कुछ अन्य प्राकृतिक कंडीशनर जिनका उपयोग किया जा सकता है वो है दही, अंडा और हिबिस्कस। अंडे के पीले भाग को एक कटोरी में निकाल कर फेंट लें,फिर उंगलियों से बच्चे के स्कैल्प पर हल्के हल्के मसाज करें। आधा घण्टा छोड़ दे और पानी से अच्छे से धो दे ताकि स्मेल ना रहे।

8- जेलेटिन का प्रयोग

  • जेलेटिन में 2 अमीनो एसिड होते है ग्लायसीन और प्रोलिन। ये बच्चे के बालों के विकास में बहुत लाभदायक होते है।
  • ये केवल बालो को नही इम्यून सिस्टम को भी मजबूत बनाते है। इसे प्रयोग करने के लिए जेलेटिन को गर्म और ठंडे पानी को बराबर हिस्से में लेकर एक चम्मच शहद और सेब के सिरके के साथ भली प्रकार मिला ले।
  • फिर बालो और स्कैल्प पर मसाज करें,सूखने पर शैम्पू कर दे।

About the author

Amisha Bharti

मैं अमीषा पेशन से एक हेल्थ ब्लॉगर हु. मैं अपने ब्लॉग में लोगों को बीमारियों से मुक्ति दिलाने के तरीकों के बारे में बताती हूँ. आप मेरे ब्लॉग से हेल्थ से संबधित सभी तरह की जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment