Health and Diseases Women's Health

कैसे होएं पीसीओएस (PCOS) प्रॉब्लम के साथ प्रेग्नेंट?

how-to-get-pregnant-with-pcos-hindi
Written by Amisha Bharti

आज कल बाँझपन और इनफर्टिलिटी का सबसे बड़ा कारण है महिलाओं को होने वाली पीसीओएस प्रॉब्लम।  पीसीओएस मतलब पोल्य्सिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम।  यह समस्या काम उम्रो की लोगों में ज्यादा बढ़ती जा रही है।

इस बीमारी के कारण महिअलों में कई हार्मोनल बदलाव होते है। इन बदलावों से महिलाओं में गर्भ  धारण करने की क्षमता पर असर पढ़ता है। ऐसी स्तिथि में गर्भ धारण करना मुश्किल होता है। ऐसी स्तिथि में महिअलों में ओवुलेशन बिलकुल भी नहीं होता या अनियमित होता है।  इसका सीधा मतलब है की कोई भी एग रिलीज़ नहीं होता। जिसकी वजह से भ्रूण नहीं बनता और महिलायीं गर्भ धारण नहीं कर पाती है।

लेकिन डरिये मत।  इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है की महिलाएं कभी गर्भ धारण नहीं कर सकती। ऐसे कई उपाय है जिनके प्रयोग से ऐसी स्तिथि में भी गर्भ धारण किया जा सकता है। यह तकनीकी इस बीमारी में गरब धारण करने में सहायता करती है। आइए जानते है इन उपायों के बारे में।

ओवुलेशन करनेवाली दवाइयां और इंजेक्शंस | Fertility Drugs and Medicines in Hindi

ओवुलेशन करनेवाली दवाइयां और इंजेक्शंस इस स्तिथि में गर्भ धारण करने के लिए सबसे आम उपाय है। इन दवाइयों के साथ पौष्टिक आहार, नियमित रूप से एक्सरसाइज और वजन को कण्ट्रोल में रखते हुए महिलाएं प्रेग्नेंट हो सकती है। इन दवाइयों की मदद से ओवरी में एक से ज्यादा अंडे निकलने की शुरुआत होती है। अगर यह दवाइयां नियमित रूप से ओवुलेशन शुरू करती है तो इसका मतलब यह है की आपकी ओवरी में नियमित रूप से एग रिलीज़ हो रहे है।

इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन

 इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन वाली तकनीक भी कई महिलाओं की मदद करती है। जब एक और स्पर्म मिलने में मुश्किल होती है तब ज्यादातर आईवीएफ तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। 

बिमारिओं पर नियंत्रण

अगर महिला डायबिटीज, थाइरोइड , मोटापा जैसी बीमारी से पीड़ित है तो उनको इन समस्याओं को नियंत्रित करके रखना चाहिए।  अगर महिला को थाइरोइड है तो थाइरोइड के हार्मोन्स को कण्ट्रोल करने वाली दवाइयां महिला को दी जाती है ताकि थाइरोइड कण्ट्रोल में रहे। वजन पर कण्ट्रोल करने के लिए या मोटापा कम करने के लिए महिला को सही डाइट लेनी चाहिए।  इसके साथ- साथ ही नियमित रूप से एक्सरसाइज भी करनी चाहिए। ऐसा करने पर ही महिलाएं गर्भ धारण कर पाएंगी और एक स्वस्थ बच्चे को जनम दे पाएंगी।

गर्भनिरोधक दवाओं का इलाज़

कई बार प्रेगनेंसी से पहले पीसीओएस का इलाज़ इन दवाइयों से किया जाता है। इन दवाइयों की मदद से महिला के शरीर में पुरुष हार्मोन्स का लेवल बढ़ता है। इसी कारण से महिलाओं में प्रजननं क्षमता बढ़ती है।

लेप्रोस्कोपी सर्जरी

कई बार काफी महिलाओं में पीसीओएस काफी बढ़ जाता है। ऐसे में गर्भ धारण करने के लिए या उससे पहले डॉक्टर इस सर्जरी का सुझाव देते है। इस सर्जरी की मदद से अंडाशयों की गाठों को नष्ट किया जाता है। ऐसा करने से महिलाओं में ओवुलेशन की वृद्धि होती है।

पीसीओएस दूर करने का घरेलू उपाय | Home Remedies to Cure PCOS

घरेलू उपाय की मदद से भी कई महिलाएं पीसीओएस की बीमारी दूर कर सकती है। हो सकता है इन उपायों से यह पूरी तरीके से दूर नहीं हो लेकिन नियंत्रित जरूर हो सकती है। सौंफ का पानी पीना, विटामिन डी से युक्त भोजन करना, तुलसी से बानी हुई चाय पीना, तिल खाना आदि सब इस बीमारी को नियंत्रित करने के घरेलू उपाय है। गर्भ धारण करने में कोई मुश्किल नहीं हो उसके लिए महिलाएं यह सारे उपाय आसानी से अपना सकती है।

1. योग के साथ करे पीसीओएस को नियंत्रित

योग का महत्व और योग के फायदों से हम सभी परिचित है। योग स्वास्थ्य के साथ-साथ कई बिमारियों का इलाज करता है। इसी में शामिल है पीसीओएस को नियंत्रित करने की शक्ति। प्रेगनेंसी से पहले पीसीओएस को कंट्रोल करने में योग बहुत फायदेमंद रहता है। पीसीओएस को कंट्रोल करने के लिए कुछ प्रकार के योग बहुत काम है। इसमें तितली आसान, सुप्त बद्धकोणासन, भारद्वाजासन, चक्की चलनासन, शवासन, पदमा साधना, और सूर्यनमस्कार शामिल है। यह सभी योग के आसन पीसीओएस को कण्ट्रोल करने में मदद करता है।

2. बी एम आई (BMI) का नियंत्रण

आपका बी एम आई हमेशा 18.5 और 25 के बीच में रहना चाहिए। पौष्टिक आहार  और नियमित व्यायाम की मदद से आप अपना बी एम आई  इस स्तर पर रख सकते है। इस अवस्था में आपको फल सब्जियां, बीन्स, गेहूं के आटे की चीज़े आदि खानी चाहिए। 

3. गाइनकोलॉजिस्ट की सलाह

कोई भी उपाय अपनाने से भी सभी महिलाओं को एक अच्छे गयनेकोलॉजिस्ट की सलाह लेनी चाहिए। एक सही गैंसोलोजिस्ट ही आपको बता पायेगी की पीसीओएस के साथ आपके प्रेग्नेंट होने की संभावनाएं कितनी है। इस से यह भी पता लग जाता है की आपके लिए कोनसा उपाय सबसे उचित है और कोनसे उपाय से आपको सफलता मिलेगी।

pcos-problem--ko-kaise-theek-karein

पीसीओएस के दौरान प्रेगनेंसी के लिए टिप्स | Tips To Get Pregnant During Pregnancy in Hindi

पीसीओएस के दौरान अगर आप गर्भ धारण कर पाती है तो कुछ बातों का ध्यान अवश्य दीजिये। यह बातें आपके लिए फायदेमंद साबित होती है:

  • डब्बे वाले खाने की चीज़ों से दूर रहना चाहिए।
  • नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।
  • कार्बोहायड्रेट और शुगर युक्त भोजन से भी दूर रहना चाहिए।
  • धूम्रपान और शराब  का सेवन नहीं करना चाहिए। यह प्रजननं क्षमता को प्रभावित करता है।
  • तनाव मुक्त रहना चाहिए।

About the author

Amisha Bharti

मैं अमीषा पेशन से एक हेल्थ ब्लॉगर हु. मैं अपने ब्लॉग में लोगों को बीमारियों से मुक्ति दिलाने के तरीकों के बारे में बताती हूँ. आप मेरे ब्लॉग से हेल्थ से संबधित सभी तरह की जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment