Mind & Body

Meaning of Meditation and it’s Benefits | ध्यान के फायदे

meditation-meaning-in-hindi
Written by Surbhi

ध्यान एक ऐसी प्रकिया है , जिसमे एक व्यक्ति अपने विचारो को एक जगह या स्थान पर एकाग्रता पूर्ण ढंग से मन में विचार या चिंतन कर अपने मन को स्थिर कर सकता है

ध्यान के लाभ | Benefits of Meditation in Hindi

  1. ध्यान के कारण ही मन शांत होता  है।
    अगर हम बात करे घर पर ध्यान लगने की तो , पाएगे की घर पर ध्यान लगने से मन को शान्ति तो मिलती है , लेकिन  साथ ही शरीर भी स्वस्थ रहता है ।
  2. ध्यान से मन को अच्छी एकाग्रता प्राप्त होती है
    एक व्यक्ति को ध्यान करने से अच्छी एकाग्रता तो मिलती है , लेकिन साथ ही  अच्छी आत्म शक्ति भी प्राप्त होती है । जिसे शरीर को शांति मिलती है ।
  3. ध्यान से ही शरीर व मस्तिष्क का विश्राम होता है।
    ध्यान से एक व्यक्ति को निश्चित रूप से मानसिक संतुष्टि ,अर्थात मानसिक शांति मिलती है। साथ ही शरीर को विश्राम मिलता है।

घर पर ध्यान लगते समय इन बातों का ख्याल रखें

ghar-par-dhyan-kaise-lagaye

ध्यान की बैठक

ध्यान करने के लिए सबसे पहले एक आसन का प्रयोग करना होता है , यह आसन बैठक के लिए मुलायम और नरम होना चाहिए , जिसे ध्यान में कोई  बाधा उत्पन्न न हो सके। ध्यान में बैठक का उद्देश्य ध्यान को एकाग्र करके मन व शरीर को विश्राम देना है ।

सावधानी

ध्यान लगाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखे, की ध्यान एक प्रक्रिया है। जिसे करते वक्त मन में किसी भी प्रकार का कोई तनाव नहीं आना चाहिए ,अगर आता है। तो ध्यान का विश्राम टूट सकता है।

समय

ध्यान के लिए  एक नियमित समय बनने का प्रयास करे , ताकि ध्यान की यह प्रक्रिया सुचारु रूप से एक दैनिक जीवन में प्रयोग आ सके । 

बेहतर स्थान

ध्यान करने से पहले ,ध्यान के लिए एक बेहतर स्थान का चयन अति आवश्यक है। ध्यान के लिए स्थान एकदम  शांति व शोरगुल रहित हो। साथ ही जगह साफ -सुथरी हो , माहौल एक दम मनमोहक हो। तभी ध्यान करने में आनंद आता है 

घर पर ध्यान कैसे लगाए | How to Meditate at Home in Hindi

1. अपनी चटाई अथवा कुर्सी पर बैठें

अपनी चटाई अथवा कुर्सी पर बैठें ध्यान के लिए अपनी चटाई अथवा कुर्सी पर बैठकर अपनी कमर को सीधा रखे ,ताकि कमर पर कुछ खिंचाव हो उसके बाद बैठे-बैठे अपनी कमर को दाए व बाये झुकाये। उसके बाद धीरे -2 एक्सरसाइज शुरू करे ,ताकि मन व शरीर पर कुछ खिचाव पड़ सके ,जिसे शरीर को  विश्राम मिल सके ।

2. आँखें बंद कर खाली दीवार की ओर ध्यान केंद्रित करें

कुछ लोगो को आँखें बंद व कुछ लोगो को आँखें खोलकर अथवा दोनों में ही समस्याएं उत्पन्न होती है खाली दीवार हो तब ,  क्योकि आँखें बंद होने पर मन स्थिर न होकर निद्रा में चला जाता है । जबकि दूसरी और आँखें खोलकर खाली दीवार हो तब मन स्थिर रहता है ,लेकिन मन शून्य अथवा जहाँ कुछ नहीं  है वहाँ ध्यान लगाने लगता है

3. अपनी सांस की तरफ ध्यान केंद्रित करें

  • शांत जगह का चुनाव करे
    अगर की किसी व्यक्ति को अपनी सांस की और ध्यान को केंद्रित करना है , तो उस व्यक्ति को एक शांत जगह का चुनाव करना चाहिए , ताकि वह अपनी सांसो को नियंत्रित कर सके।
  • बैठने के लिए चटाई ले
    अगर किसी व्यक्ति को अपनी सांसो को नियंत्रित करना है , तो  बैठने के लिए उस व्यक्ति को चटाई का प्रयोग करना चाहिए । ताकि पूरा शरीर नियंत्रित हो सके ।
  • सही रौशनी का चयन करे
    अपनी सांसो को नियंत्रित करने के लिए सही रौशनी का चयन जरुरी है , क्योकि इसे  सांसो को नियंत्रित करने में मदद मिलती है ।
  • ध्यान करने के लिए सही समय का चुनाव करे
    अगर किसी व्यक्ति को अपनी सांसो पर नियंत्रण पाना है , तो उस व्यक्ति को सही समय का चुनाव करना चाहिए , क्योकि इसी से एक व्यक्ति को सांसो में  नियंत्रण पाने में मदद मिलती है ।
  • खाली दीवार की ओर ध्यान केंद्रित करें
    अगर किसी व्यक्ति को अपनी सांसो पर नियंत्रण पाना हो , तो उस व्यक्ति को खाली दीवार की ओर ध्यान केंद्रित करना चाहिए , क्योकि इसी से ही एक व्यक्ति अपनी सांसो को नियंत्रत कर सकता है ।
  • अपनी सांस की तरफ ध्यान केंद्रित करें
    अगर किसी व्यक्ति को अपनी सांसो पर नियंत्रण पाना है , तो उस व्यक्ति को अपनी सांसो के साथ मन में भी चिंतन मनन करना चाहिए ।

4. एकाग्रता बनाये रखना

अगर किसी व्यक्ति को अपने आप को एकाग्र चित बनना है , तो उस व्यक्ति को तनाव से दूर होना होगा ,साथ ही उस व्यक्ति को विचार शील बनना होगा  । तभी वह अपने आप को एकाग्रचित कर सकता है।

5. ध्यान के अंत में

अंत में अगर हम बात करे ध्यान की तो पाएगे की । ध्यान के अंत में भौतिक  स्थिति, शांत बैठना तथा प्रतिदिन ध्यान लाना शामिल है।

निष्कर्ष | Conclusion

अतः उपरोक्त  बातों से यह स्पष्ट  है । की ध्यान एक निंयत्रित प्रक्रिया है । जो की मानव जीवन के लिए जरूरी और आवश्यक है ।

About the author

Surbhi

मेरा नाम सुरभि है और ब्लोगिंग मेरा पेशन है. में अपने ब्लॉग पर आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताती हु. आप सभी जानते है की आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खे हमारे लिए कितना फायदेमंद है और इनका किसी तरह का साइड इफ़ेक्ट नहीं है. इसलिए में अपने ब्लॉग पर आपको आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताउंगी ताकि आप इन्हें अच्छे से जान सके और बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के खुद में बदलाव ला सके.

Leave a Comment