Disease Health and Diseases

माइग्रेन का मतलब क्या है? Migraine Meaning in Hindi

migrain-meaning-in-hindi
Written by Amisha Bharti

वर्तमान समय में माइग्रेन  की प्रॉब्लम काफी कॉमन हो गई है। साथ ही यह प्रॉब्लम एक तरह की अनुवांशिकता के कारण भी हो सकती है। जिससे रोगी को काफी तेज सिरदर्द और शरीर में खून की कमी हो सकती है। इसका प्रमुख कारण है ,की खून की नाड़ियो का फैलाव काफी ज्यादा होता है। जिसे माइग्रेन की प्रॉब्लम हो सकती है।

माइग्रेन के लिए काफी तरह की दवाईयां बाजार में है। लेकिन आप घर पर ही कुछ धरेलू  उपायों का प्रयोग करके भी माइग्रेन को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। साथ ही में आप सही तरह के खाने से भी  माइग्रेन को कम कर सकते है। 

माइग्रेन मुख्य रूप से मौसम से एलर्जी , सही तरीके का खानपान ना होना ,शरीर में खून के  भाव का लगातर परिवर्तित होना, ज्यादा टेंशन होना, सही समय पर सोने का वक्त तय ना होना ,समय पर समय हॉर्मोन में चीज होना। आदि की समस्या से माइग्रेन हो सकता है।

माइग्रेन के उपचार | Treatment of Migraine in Hindi 

  • हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां खाकर
    वर्तमान समय में जिस तरह से माइग्रेन की समस्या काफी तेजी से हो रही है ,जिसके बचाव के लिए  एक व्यक्ति को हरी सब्जियों का प्रयोग करना चाहिए , ताकि वह माइग्रेन की समस्या से अपना बचाव कर सके।
  • मछली खाना भी रहेगा फायदेमंद
    वर्तमान समय में माइग्रेन की समस्या इसलिए भी हो रही है,क्योकि एक व्यक्ति में विटामिन और प्रोटीन की कमी होती है , जिसकी वजह से माइग्रेन की समस्या उत्पन्न होती है। इसलिए शरीर में  विटामिन और प्रोटीन की मात्रा को बनाए रखने के लिए मछली का सेवन करना चाहिए।
  • डाइट में जरूर शामिल करें दूध
    माइग्रेन में दूध पीना काफी अच्छा होता है। क्योकि दूध पीने से विटामिन बी होता है। जो शरीर को एनर्जी देने का काम करता है। साथ ही शरीर को साफ करता है।
  • कॉफी पीना भी है फायदेमंद 
    काफी पीना शरीर के लिए बहुत जरुरी है। क्योकि इससे एक व्यक्ति को माइग्रेन की समस्या से राहत मिलती है। साथ ही इससे माइग्रेन के अटैक को रोकने में मदद मिलती है।
  • रेड वाइन भी है बेहतर विकल्प
    रेड वाइन भी है एक  बेहतर विकल्प क्योकि इसमें पाया जाता है टायरामाइन। जो की शरीर को ऊर्जा देता है । साथ ही माइग्रेन में हो रहे दर्द को भी कम करता है।
  • ब्रॉकली
    माइग्रेन के लिए ब्रॉकली काफी फायदेमंद होती है। क्योकि इसमें पाया जाता है मैग्नीशि‍यम, जो की माइग्रेन के दर्द में काफी मदद करता  है।

माइग्रेन के लक्षण | Symptoms of Migraine in Hindi

  1. माइग्रेन में चेहरे व गले में दर्द होता है ।
    माइग्रेन में चेहरे व गले में दर्द होता है क्योकि इसमें खून का फलो कम हो जाता है ,जिसे चेहरे व गले में दर्द होता है।
  2. माइग्रेन से सिर में काफी तेज दर्द होता है ।
    माइग्रेन में सिर पर काफी तेज दर्द होता है इसकी वजह है पाचन तंत्र का सही तरह से काम ना करना ।
  3. माइग्रेन में आंखों की दृष्टि धुंधली होती है ।
    माइग्रेन में आंखों की दृष्टि धुंधली होती है। क्योकि इसमें गुर्दे व दिल इत्यादि पर काफी पूरा असर पड़ता है इसलिए माइग्रेन में आंखों की दृष्टि धुंधली होती है ।
  4. नाक का बंद होना इन माइग्रेन 
    माइग्रेन में पूरे शरीर में दर्द के साथ -2 उलटी व जुखाम होता है , जिसके कारण माइग्रेन में नाक बंद होती है। 

माइग्रेन के चरण | Stages of Migraine in Hindi

  1. प्रोड्रोम- माइग्रेन होने से पूर्व एक व्यक्ति को कब्ज , खाने में कमी तथा गले में दर्द होना आदि की समस्या होती है। 
  2. आभा – यह देखा गया है , की माइग्रेन से पहले या उसके दौरान आंखों की दृष्टि में कमी होती है। साथ ही बात करने में गड़बड़ी होती है। 
  3. अटैक – इसमें माइग्रेन 3 से 48 घंटों तक होता है। यदि जल्द ही इसका इलाज नहीं होता है , तो इसमें गभीर सिर दर्द होता है। साथ ही  इसमें उल्टी भी होती है।
  4. पोस्ट ड्रम – अंतिम चरण में एक व्यक्ति को कान से संबधित परेशानी ,चक्कर , तथा शरीर में कमजोरी होती है।

निष्कर्ष | Takeaway

अत: उपरोक्त सभी बातो के आधार पर हम यह कह सकते है , की माइग्रेन आमतौर पर सभी को होता है ,और साथ ही इसका एक प्रमुख कारण दिमाग में खून का संचार काफी तेज होना है ,जिसे गंभीर सिर दर्द होना , गले में दर्द , चक्कर आना , आंखों की दृष्टि धुंधली , कब्ज का होना नाक का बंद होना। ये सभी का कारण है , जो की माइग्रेन जिम्मेदार है ।

About the author

Amisha Bharti

मैं अमीषा पेशन से एक हेल्थ ब्लॉगर हु. मैं अपने ब्लॉग में लोगों को बीमारियों से मुक्ति दिलाने के तरीकों के बारे में बताती हूँ. आप मेरे ब्लॉग से हेल्थ से संबधित सभी तरह की जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment