Gharelu Nuskhe Treatments

मितली (Nausea) के लिए घरेलू उपचार

nausea-in-hindi
Written by Surbhi

हालाँकि जी मचलना या उलटी होना कोई गंभीर समस्या नहीं है. यह आमतौर पर काफी लोगो को हो जाती है. कई बार ज्यादा खा लेना, बहुत अधिक शराब पी लेना, तनाव, प्रेगनेंसी, पेट में फ्लू, पेट दर्द आदि की वजह से उलटी हो जाती है. ऐसे में डरने की जरूरत नहीं है. लेकिन फिर भी अगर अति हो जाए तो सावधान रहने की जरूरत है. आईये जानते है मतली या उलटी की समस्या को दूर करने के घरेलू उपायों के बारे में.

मितली के लक्षण | Symptoms of Nuasea in Hindi

  • पेट में किसी तरह की परेशानी होना जैसे पेट दर्द
  • पेट में मरोड़े आना
  • चक्कर आना
  • चिंता, तनाव और डिप्रेशन
  • होंठ और मुहं का सुखना
  • बुखार
  • भ्रम
  • बहुत ज्यादा नींद आना
  • बहुत ज्यादा पसीना आना
  • छाती में दर्द

मितली के कारण | Causes of Nausea in Hindi

  • पेट और गले में जलन
  • संक्रमण
  • गैस बनना
  • एसिडिटी
  • फ़ूड पोइजनिंग
  • पेट की अन्य समस्याएं
  • पेप्टिक अल्सर
  • माइग्रेन
  • किसी तेज गंध की वजह से
  • पेट में रुकवट

जी मिचलाए तो अपनाये ये घरेलु उपाय :

1. अदरक और नींबू

एक चम्मच अदरक और नींबू का जूस मिला ले और इस मिश्रण को पुरे दिन में कई बार पीने की कोशिश करें. इसके साथ ही आप अदरक की चाय में थोड़ा सा शहद मिलाकर भी पी सकते है.

2. चावल का पानी

एक कप पानी में चावल ले के उन्हें उबाल दे और फिर पी ले. उलटी और मतली को कम करने में चावल बहुत असरदार है. चावल पचाने में भी आसान होते है.

3. दालचीनी

दालचीनी पाउडर को पानी के साथ मिलाकर उबाल कर पीयें या आप चाहे तो इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर भी पी सकते है. इस मिश्रण से मतली (जी मचलाना) में तुरंत आराम मिलता है. दालचीनी से पेट शांत रहता है.

4. पुदीना

जब पेट खराब हो या उलटी की शिकायत हो तो पुदीना बहुत असरदार है. एक चम्मच सूखे पुदीने की पत्तियाँ ले, उसे एक कप गर्म पानी में उबाल दे. अब इस मिश्रण को 5-10 मिनट के लिए उबलने दे. इसके बाद इसे छानकर पी ले. इससे मतली (जी मचलाना) में आराम मिलेगा और पेट संबधी समस्याओं में भी आराम मिलेगा.

5. सेब का सिरका

सेब का सिरका उलटी के अहसास को कम करने में मदद करता है और पेट को शांत रखता है. इसके साथ ही शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है. सेब के सिरके में ऐसे गुण पाए जाते है तो फ़ूड पोइजनिंग के लक्षणों को कम करते है. एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका ले और आप एक चम्मच शहद भी मिला दे. अब इस मिश्रण को पी ले. जब भी आपको मतली (जी मचलाना) या उलटी की समस्या हो तो आप इस मिश्रण को पी सकते है.

6. लौंग

आप चाहे तो लौंग को सीधा भी चबा सकते है या इसकी चाय बनाकर भी पी सकते है. लौंग पाचन शक्ति को सुधारता है जिससे उलटी की समस्या को कम करने में मदद मिलती है.

7. सौंफ

एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच सौंफ के बीज डालें और 10 मिनट के लिए उबलने को रख दे. उबलने के बाद इस मिश्रण को छान ले और पुरे दिन में एक या दो बार इसका इस्तेमाल जरुर करें. सौंफ में जीवाणुरोधी गुण होते है जिस वजह से यह पेट की समस्याओं को रोकने में मददगार है.

8. नमकीन और बिस्किट

जब भी आपको मतली (जी मचलाना) या उलटी का मन कर रहा हो या अहसास हो रहा हो तो तब आप अपनी पसंद का बिस्किट या नमकीन खा सकते है. इससे आपको पोषण और ऊर्जा मिलेगी जिससे आपको अच्छा अहसास होगा.

मितली आने पर करें यह अन्य उपाय:

  • जब भी मतली (जी मचलाना) या उलटी का अहसास हो तो पानी पी ले. जिससे आपका पेट खाली ना रहें.
  • हल्का और नरम भोजन ले.
  • स्वच्छ तरल पदार्थ पीये जैसे जूस.
  • टला हुआ भोजन ना खाएं.
  • बाहर का खाना ना खाएं.
  • ज्यादा से ज्यादा आराम करें.
  • परफ्यूम की सुगंध से बचे.
  • खाने के ठीक बाद ब्रश ना करें.
  • खाना खाने के बाद गहरी नींद ना ले.
  • खाना खाने के बाद थोड़ी वाक करें.

About the author

Surbhi

मेरा नाम सुरभि है और ब्लोगिंग मेरा पेशन है. में अपने ब्लॉग पर आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताती हु. आप सभी जानते है की आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खे हमारे लिए कितना फायदेमंद है और इनका किसी तरह का साइड इफ़ेक्ट नहीं है. इसलिए में अपने ब्लॉग पर आपको आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खों के बारे में बताउंगी ताकि आप इन्हें अच्छे से जान सके और बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के खुद में बदलाव ला सके.

Leave a Comment