Health and Diseases Men's Health

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण, कारण और बचाव के उपाय क्या है

प्रोस्टेट-कैंसर-क्या-है-in-hindi
Written by Saransh Sethi

पुरुषों में प्रोस्टेट का बढ़ना – जानिएं क्यों रखें ख़ास ख्याल

कैंसर एक बहुत ही खतरनाक और जानलेवा बीमारी है. अगर किसी को कैंसर हो गया तो सबसे पहले मुहं से एक ही शब्द निकलता है की अब इसका बचना मुश्किल है. सच में अगर समय रहते इस घातक बीमारी का इलाज नहीं करवाया गया तो मौत निश्चित है. कैंसर ऐसी खतरनाक बीमारी है जो एक जगह से शुरू हो कर शरीर के हर हिस्से में फ़ैल जाती है.
Cancer कई तरह का होता है ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, अग्नाशय कैंसर, मूत्रमार्ग कैंसर, ब्लड कैंसर, ब्रेन कैंसर आदि. लगभग शरीर के हर हिस्से में कैंसर हो सकता है और शरीर के जिस हिस्से में कैंसर होता है उसे उस जगह के कैंसर के नाम से जाना जाता है. कैंसर में शरीर के किसी हिस्से में गाँठ बनना शुरू होती है और यह गाँठ धीरे-धीरे फैलती रहती है.

एक समय ऐसा आता है जब कैंसर शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित करने लगता है और ऐसे में एक वक्त बाद इलाज मुश्किल हो जाता है और फिर मौत निश्चित हो जाती है. लेकिन कैंसर मतलब मौत यह जरुरी नहीं है क्योंकि अगर समय पर इलाज हो जाए तो आप अपनी जिंदगी को बचा सकते है.

ऐसा ही एक कैंसर का प्रकार है प्रोस्टेट कैंसर. यह एक ऐसा कैंसर है जो लगभग 50 साल से उपर के दो में से एक पुरुष को होता है. प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों के प्रोस्टेट ग्लैंड में होने वाला एक कैंसर है. प्रोस्टेट ग्लैंड अखरोट के आकार की एक ग्रन्थि है जो पेशाब की नली के चारों तरफ होती है. आईये जानते है प्रोस्टेट कैंसर क्या है, इसके लक्षण और कारण क्या है तथा इससे कैसे बच सकते है.

प्रोस्टेट कैंसर क्या है?

प्रोस्टेट कैंसर प्रोस्टेट ग्लैंड में पाया जाने वाला कैंसर है. यह एक ऐसी ग्रन्थि है जो पेशाब की नली के चारों तरफ होती है. इसका काम वीर्य में मौजूद एक द्रव का निर्माण करना होता है. यह कैंसर आमतौर 50 साल के अधिक पुरुषों को होता है लेकिन कई बार कम उम्र में भी हो सकता है लेकिन इसके चांसेज कम है.

गलत लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से इस कैंसर के मामले बढ़ रहे है. अमेरिका और यूरोप में तेजी से फैलने के बाद अब यह कैंसर भारत में भी तेजी से फ़ैल रहा है. आईये जानते है प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण, कारण और बचाव के बारे में.

प्रोस्टेट कैंसर के कारण क्या है?
Causes of Prostate Cancer in Hindi

  1. आनावंशिक कारण
    प्रोस्टेट कैंसर आनुवंशिक बीमारी भी हो सकती है. कई शोध में यह पाया गया है की पहले आपके परिवार में किसी को इस तरह का कैंसर हुआ है तो आप भी इसकी चपेट में आ सकते है.
  2. हार्मोनल बदलाव
    पुरुषों में पाया जाने वाला हार्मोन टेस्टोस्टेरान भी प्रोस्टेट कैंसर के लिए जिम्मेदार है. इसके बढ़ने से और वसा हार्मोन का उत्पादन अधिक होने से इस कैंसर को बढ़ावा मिलता है. ब्रेस्ट कैंसर की तरह प्रोस्टेट कैंसर भी हार्मोनल बदलाव की वजह से हो सकता है.
  3. गलत खानपान
    जो लोग डेयरी उत्पाद, लाल मांस, कैल्शियम यक्त पदार्थ, डिब्बा बंद पदार्थ, ज्यादा तला हुआ खाना, शराब, कैफीन आदि चीजों का सेवन ज्यादा करते है उन्हें प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा ज्यादा रहता है.
  4. केमिकलों के सम्पर्क में आना
    जो लोग अलग-अलग तरह के रसायन जैसे धातु, बैटरी, वेल्डिंग, रबड़ आदि की फैक्ट्री में काम करते है उन्हें प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा बहुत ज्यादा रहता है.
  5. गलत लाइफस्टाइल
    गलत खानपान, धुम्रपान, मोटापा, योग और व्यायाम ना करना और गलत आदतों की वजह से प्रोस्टेट कैंसर का खतरा बहुत बढ़ जाता है.

प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण
Symptoms of Prostate Cancer in Hindi

  1. पेशाब करने में समस्या होना
    बार-बार पेशाब आना या दिन में कई बार पेशाब करने में तकलीफ होना या दर्द महसूस होना प्रोस्टेट कैंसर का लक्षण है. रात को बार-बार पेशाब आना, पेशाब रोकने में समस्या होना, पेशाब करते समय दर्द होना, अचानक से पेशाब निकल जाना आदि प्रोस्टेट कैंसर के गंभीर लक्षण है. ऐसा अगर कई समय तक हो जल्दी ही डॉक्टर से सम्पर्क करें अन्यथा बात बिगड़ सकती है.
  2. त्वचा में बदलाव होना
    अगर आपको अपनी त्वचा के साथ-साथ चेहरे पर कुछ बदलाव दिखाई दे रहा है जैसे त्वचा काली या सांवली होने लगी है या कुछ भी बदलाव दिखे तो सावधान हो जाए और तुरंत अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें.
  3. पेशाब और मल के साथ खून आना
    अगर आपक्प पेशाब करते समय खून निकल रहा है, मल के साथ खून आ रहा है तो यह प्रोस्टेट कैंसर का गंभीर लक्षण है. यह समस्या अधिकतर 50 साल की उम्र के बाद होती है लेकिन खराब लाइफस्टाइल और गलत खानपान की वजह से यह बीमारी कम उम्र में भी हो सकती है.
  4. वजन में गिरावट
    अगर बिना किसी कारण से अचानक से आपका वजन कम होने लगे तो यह भी प्रोस्टेट कैंसर का लक्षण हो सकता है क्योंकि प्रोस्टेट कैंसर होने पर खाना सही से नहीं पचता है और जब पाचन क्रिया ही सही से काम नहीं करती तो वजन कम होना स्वभाविक है.
  5. कमर और पीठ में दर्द होना
    अगर आप ज्यादा देर तक काम करते है या आपको लम्बे समय तक बैठने की आदत है तो इससे आपकी कमर और पीठ में दर्द होना स्वभाविक है. लेकिन अगर बिना किसी समस्या या वजह के पीठ या कमर दर्द होने लगे तो यह प्रोस्टेट कैंसर का लक्षण हो सकता है. कमर के आसपास की मांसपेशियों में होने वाले दर्द को नजरअंदाज ना करें.
  6. बुखार और थकान
    प्रोस्टेट कैंसर होने पर व्यक्ति की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है जिसके कारण ज्यादा बीमारियाँ होने की संभावना रहती है. लगातार खांसी आना, बुखार, फ्लू, लम्बे समय तक थकान रहना आदि प्रोस्टेट कैंसर के शुरूआती लक्षण है.

प्रोस्टेट कैंसर का इलाज
Prostate Cancer Treatment in Hindi

prostate-cancer-in-men-in-hindi

प्रोस्टेट कैंसर के इलाज में टेस्टोस्टेरान हार्मोन के स्तर को कम किया जाता है और इसके लिए सर्जरी, कीमोग्राफी या हार्मोनल थैरेपी की जाती है. कई बार सर्जरी के बाद रेडियेशन थैरेपी और दवाओं से भी इसको रोका जा सकता है. इसमें पहले मूत्र और जरुर जांचे होती है और उसके बाद बीमारी के अनुरूप डॉक्टर इलाज शुरू करता है.

प्रोस्टेट कैंसर को रोकने के घरेलू नुस्खे
Home Remedies for Prostate Cancer

  • एलोवेरा
    एलोवेरा प्रोस्टेट कैंसर के इलाज के सबसे बेस्ट ओषधि है. जो लोग प्रोस्टेट कैंसर से ग्रस्त है उन्हें नियमित रूप से एलोवेरा के जूस का सेवन करना चाहिए. एलोवेरा में कैंसररोधी तत्व पाए जाते है जो कैंसर की कोशिकाओं को पनपने और बढ़ने से रोकते है.
  • ग्रीन टी
    ग्रीन टी में भी कैंसररोधी तत्व पाए जाते है इसलिए आपको रोजाना 1-2 कप ग्रीन टी पीनी चाहिए.
  • लहसुन
    लहसुन में कई तरह के शक्तिशाली एंटी-बायोटिक और एंटी-ओक्सिडेंट तत्व पाए जाते है जैसे एलिसीन, विटामीन C, विटामीन B आदि. इससे कैंसर में बचाव होता है और लहसुन खाने से कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोका जा सकता है.
  • सोयाबीन
    प्रोस्टेट कैंसर के मरीजों को रोजाना अपने आहार में सोयाबीन  के अंकुर या पकाए हुए सोयाबीन का सेवन करना चाहिए. सोयाबीन में कई सारे ऐसे तत्व पाए जाते है जो कैंसर से बचाव करते है.
  • अमरुद और तरबूज
    अमरुद में लाइकोपीन नामक तत्व पाया जाता है जो कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने और पनपने से रोकता है. इसलिए जिन लोगों को प्रोस्टेट कैंसर है उन्हें अमरुद और तरबूज का सेवन करना चाहिए.
  • ब्रोकोली
    ब्रोकोली में फ़ायटोकेमिकल पाया जाता है जो कैंसर की कोशिकाओं से लड़ने में सक्षम है. इसमें एंटी-ओक्सिडेंट तत्व भी पाए जाते है जो खून को साफ़ करते है और इससे प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है.

About the author

Saransh Sethi

मेरा नाम सारांश है और में एक हेल्थ ब्लॉगर हूँ. मैं हेल्थ से संबधित जानकारी लोगों के साथ शेयर करना पसंद करता हूँ, खासकर पुरुषों से संबधित हेल्थ जानकारी. अगर आप एक पुरुष है तो यह ब्लॉग आपके लिए ही है. इस पर आप अपनी हेल्थ से जुडी सभी तरह की समस्याओं के बारे में और उनके इलाज के बारे में जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment