Health and Diseases Men's Health

पुरुष बांझपन | Infertility in Men in Hindi

purush-mei-infertility-ke-reasons
Written by Saransh Sethi

यदि कोई महिला गर्भ धारण करने में असमर्थ है, तो इसका कारण हर समय महिला के अंडों की गुणवत्ता कम होना नहीं है। बल्कि यह पुरुष प्रजनन क्षमता का कारण भी हो सकता है। यह पुरानी बात हो गई है जब बच्चे के लिए महिला को बांझ माना जाता था।

कभी कभी महिलाओं को स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में मुश्किल आती है। यहां तक की सारी रिपोर्ट सामान्य होने के बाद वे स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में असमर्थ रहती हैं। पुरुषों में ‘इनफर्टिलिटी’ उन प्रमुख कारकों में से एक है। पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता और उसकी मात्रा गर्भ धारण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और यह पुरुष प्रजनन क्षमता का एक निर्णायक कारक भी है। आमतौर पर, 40 से 45 फीसदी सभी पुरुषों में कहीं न कहीं बांझपन की भागीदार रहते है। ऐसे में जब एक दम्पत्ति को गर्भधारण करने में परेशानी हो रही है, तो पुरुष और महिला दोनों की जांच की जानी चाहिए।

इनफर्टिलिटी के लक्षण | Symptoms of Infertility in Men in Hindi

इनफर्टिलिटी ये निम्न लक्षण हो सकते है 

  • वीर्य से कम मात्रा में स्पर्म का निकलना।
  • स्पर्म के बाहर निकलने में समस्या होना भी पुरूष बांझन के मुख लक्षणों में से एक है।
  • यौनिक क्रिया की इच्छा का कम होना।
  • अंडकोष में दर्द या सूजन होना।
  • चेहरे और शरीर पर बालों का कम होना।

चिकित्सक से परामर्श कब लें? | When to See Doctor?

  • नियमित रूप से बिना किसी गर्भधारक दवाइयों के उपयोग के बाद भी यदि एक वर्ष में गर्भधारण नहीं हो पता है तो चिकित्सक के मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है जैसे-
  • स्खलन होता हो
  • बहुत कम सेक्स इच्छा होना
  • यौन क्रिया के दौरान समस्याएं
  • अंडकोष क्षेत्र में सूजन
  • टेस्टीक्यूलर [वृषण क्षेत्र] में दर्द या असुविधा
  • प्रोस्टेट संबंधी समस्या
  • बड़ी सर्जरी होना
  • लिंग, वृषण या अंडकोष की सर्जरी

पुरूष बांझपन के कारण | Reasons for Male Infertility in Hindi

पुरूष बांझपन के कारण निम्नलिखित हो सकते हैं-

1. वीर्य में स्पर्म का न होना (एजोस्पर्मिया)-

स्पर्म कौशिका से एग फर्टिलाइज होता है। वीर्य ही वह पौष्टिक पदार्थ होता है, जो स्पर्म को तैरने में सहायता करता है। वीर्य में स्पर्म के न होने पर एग फर्टिलाइज नहीं हो पाता है। ऐसे ही स्थिती को इनफर्टिलिटी कहा जाता है जो पुरूष बांझपन के कारण होती है।

2. स्पर्म की संख्या का कम होना (ओलिगोस्पर्मिया)-

किसी व्यस्क में स्पर्म की सामान्य संख्या 15 मिलियन स्पर्म सेल प्रति सीमेन होती है। इस संख्या में कमी होने पर स्पर्म की एग में प्रवेश करने की संभावना कम हो जाती है। ऐसी स्थिति होने पर बहुत जल्दी पता लग जाता है की पुरूष बांझपन की समस्या से जूझ रहा है क्योंकि इसमें कम शुक्राणु गिनती होती है।

3. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम जैसे आनुवंशिक कारण का होना-

इस सिंड्रोम वाले व्यक्ति में छोटे अंडाकोष (माइक्रोचरिज्म) होते हैं। वे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के पर्याप्त स्तर का उत्पादन नहीं कर सकते हैं, जो पुरूष बांझपन का कारण बनता है।

4. वीर्य (सीमेन) में कमी होना-

वीर्य (सीमेन) से तात्पर्य ऐसे तरल पदार्थ से है, जो शुक्राणु को तैरने और गतिशील करने में सहायता करता है। सीमेन स्पर्म को पौषण प्रदान करता है, ताकि वह सक्रिय रहे। सीमेन में किसी तरह की कमी होने पर स्पर्म समाप्त हो सकता है और यदि एक पुरूष में स्पर्म समाप्त हो जाता है तब आसानी से डॉक्टर के द्वारा बता दिया जाता है कि वह पुरूष बांझपन से गुज़र रहा है।

5. अंडकोष की नसों में वृद्धि होना (वैरिकोसेले)-

 इस स्थिति में अंडकोष की नसे सूज जाती हैं, जिससे शुक्राणु (स्पर्म) को चलने में मुश्किल होती है। इससे शुक्राणु की गुणवत्ता भी कम हो जाती है।

6. संक्रमण-

कुछ संक्रमण के कारण प्रजनन प्रणाली की नसों में चोट के निशान हो जाते हैं और इसकी वजह से वे ऊतक के साथ अवरुद्ध करते हैं।

7. ड्रग और शराब का सेवन करना-

यदि कोई पुरूष ड्रग और शराब का सेवन करता है तो वह उसके स्पर्म की गुणवता और गुणवत्ता में कमी कर सकते हैं। इसके साथ में शराब टेस्टोस्टेरोन स्तर को कम करती है, जो स्तंभन दोष का कारण बनता है और शुक्राणु उत्पादन को कम करता है।

पुरूष बांझपन का उपचार कैसे किया जा सकता है?

पुरूष बांझपन का उपचार कई तरीकों से होता है जैसे- सर्जरी, हॉर्मोन उपचार, संक्रमण का इलाज, संभोग करने की समस्या का उपचार इत्यादि। बांझपन का उपचार के तरीकों की संक्षिप्त जानकारी इस प्रकार है;

1. परामर्श लेना-

परामर्श और दवाईयों के द्वारा यौनिक क्रियाओं से संबंधित समस्याओं जैसे शीघ्रपतन या स्तंभन दोष इत्यादि का निवारण संभव है।

2. एंटी-बायोटिक दवाईयों का सेवन कराना-

एंटी-बायोटिक दवाईयों का सेवन रिप्रोडक्टिव ट्रैक के संक्रमण को ठीक करने के लिए किया जा सकता है, लेकिन यह जरूरी नहीं है कि ये इनफर्टिलिटी समस्या में भी कारगर साबित हों।

3. हॉर्मोन उपचार कराना-

यदि इनफर्लिटी का कारण हॉर्मोन असंतुलन होता है, तो डॉक्टर उस पुरूष को कुछ दवाईयां और हॉर्मोन पुन:स्थापन की सलाह देते हैं। यह उसकी बांझपन की दवा होती हैं।

4. सर्जरी कराना-

इनफर्टिलिटी से पीड़ित पुरूष को सर्जरी कराने की सलाह डॉक्टर उस स्थिति में देते हैं, जब उसका इलाज किसी अन्य तरीकों जैसे परामर्श, हॉर्मोन उपचार, दवाई इत्यादि से नहीं हो पाता है। इस स्थिति में आईसीएसआई सर्जरी की जाती है, जो बांझपन का उपचार करने में करागर साबित होती है।

पुरूष बांझपन के इलाज | Treatment of Infertility in Men in Hindi

जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि पुरूष बांझपन का इलाज कई तरीकों से किया जा सकता है। जब इस समस्या का इलाज अन्य तरीकों के द्वारा संभव नहीं हो पाता है, तब पुरूष बांझपन का समाधान केवल आईसीएसआई के द्वारा ही संभव होता है। चूंकि, अधिकांश पुरूष आईसीएसआई सर्जरी की लागत को लेकर दुविधा में रहते हैं, तो वह इसे कराने से हिचकते हैं। लेकिन, आईसीएसआई सर्जरी एक किफायदी सर्जरी है, जिसकी औसतन लागत 80,000 से 1.5 लाख रूपये तक ही होती है।

About the author

Saransh Sethi

मेरा नाम सारांश है और में एक हेल्थ ब्लॉगर हूँ. मैं हेल्थ से संबधित जानकारी लोगों के साथ शेयर करना पसंद करता हूँ, खासकर पुरुषों से संबधित हेल्थ जानकारी. अगर आप एक पुरुष है तो यह ब्लॉग आपके लिए ही है. इस पर आप अपनी हेल्थ से जुडी सभी तरह की समस्याओं के बारे में और उनके इलाज के बारे में जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment