Disease Health and Diseases

हाई बीपी के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

high-bp-ke-lakshan-symptoms-hindi
Written by Amisha Bharti

समकालीन समय में बढ़ते हुए तनाव के बीच लोग कई बार गलत खाने की वजह से कई बीमारियों को जन्म देते है । साथ ही इन बीमारियों में शामिल हाई बीपी,शुगर आदि है। बीपी दो प्रकार की होती है। हाई बीपी और लो बीपी । ये दोनों ही काफी खातरनाक है, जिससे समकालीन समय में काफी लोग पीड़ित है ।

बीपी केवल उन लोगो को होता जो लोग अपने खान-पान का ध्यान नहीं रखते है , वही बीपी का शिकार होते है। साथ ही बीपी दो तरह से होता है एक है हाई बीपी और लो बीपी ,दोनों ही स्वस्थ के लिए खतह रनाक है। इसलिए लोगो को अपने स्वस्थ पर ध्यान देने की जरुरत है । 

एक सामान्य स्तर का बीपी 120/80 से 140 /90 तक होता है , पर अगर इससे ज्यादा जाता होता है, तो बीपी की समस्या हो सकती है। इसके कारण कई  बीमारियां हो सकती है जैसे – दिल का रोग होना , गुर्दे का रोग होना आदि । हो सकते है। 

हाई बीपी के लक्षण | Symptoms of High B.P. in Hindi

1. सिरदर्द 

सामान्य तौर पर सिरदर्द काफी आम है ,जिसे लोग ज्यादातर नजर अंदाज कर देते है। लेकिन यह लक्षण बीपी (हाई और लो बीपी ) के हो सकते है। सिरदर्द  से राहत के लिए पीने का साफ़ पानी और कुछ देर सोने से सिरदर्द में काफी आराम होता है। 

2. मितली आना 

आमतौर मितली आना अर्थात उल्‍टी आना  एक सामान्य प्रक्रिया है। जिसमे में  बेचैनी होती है ,साथ ही शरीर में कमजोरी भी महसूस होती है। लेकिन कई बार यह समस्या काफी जटिल हो जाती है और होते होते यह समस्या एक प्रकार से हाई बीपी का एक  रूप ले लेती है।    

3. नाक से खून आना 

सामान्य रूप से नाक से खून आना एक आम बात हो सकती  है , लेकिन यह भी एक प्रकार से हाई बीपी का एक लक्षण है। जिसमे नाक से खून आता है, लेकिन यह स्थिति कई बार गंभीर हो सकती है। इसलिए यह जरुरी है ,की इस स्थिति में तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए ।=

4. सांस घुटना

यह समस्या तब होती है , जब किसी व्यक्ति के शरीर में खून की मात्रा कम होती है। साथ ही व्यक्ति को शरीर में एसेनिये दर्द होता है , तब यह समस्या उत्पन्न होती है , जिसे हाई बीपी का लक्षण भी माना जा सकता है। 

हाई बीपी के सामान्य उपचार | Easy Remedies for High B.P. in Hindi

हाई ब्लड प्रेशर एक तरह की परेशानी है , जिस को नियंत्रित किया जा जाता सकता है। जैसे – दवाइयां के द्वारा , योगा के द्वारा आदि शामिल है। 

  • लहसुन

लहसुन के प्रयोग से एक व्यस्क को अनियंत्रित हाई ब्लड प्रेशर से निजाद मिलती है साथ ही इसकी एक कली बीपी को कम करने में मदद करती है। लहसुन में बायोएक्टिव पाया जाता है , जो की बीपी और हाई ब्लड प्रेशर में लाभ देता है।

  • आंवले

आंवले के प्रयोग से एक व्यक्ति में विटामिन-सी की कमी नहीं होती है , साथ ही इससे हाई ब्लड प्रेशर और बीपी की समस्या नहीं होती है।आंवला शरीर के लिए काफी गुणकारी है। जो की  शरीर को नरिश करता है । और बालो की समस्या को भी कम करता है।  

  • मेथी

मेथी एक तरह की दवा है जो की शरीर के लिए दवा का काम करती है। जो की शरीर को कैल्शियम के साथ -2 प्रोटीन भी देती है , यह शुगर ,बीपी के रोगियों के लिए काफी लाभदायक है। हाई ब्लड प्रेशर में मेथी खाने से शरीर को ग्लूकोज मिलता है। जिससे हाई ब्लड प्रेशर मेन्टेन रहता है । इसलिए हाई ब्लड प्रेशर में मेथी का सेवन करना अनिवार्य है।

निष्कर्ष | Conclusion

अत : उपरोक्त सभी बातो के आधार पर यह कह जा सकता है , हाई बीपी का कारण ख़राब जीवन शैली के साथ -2 ख़राब खाने का प्रयोग भी शामिल है , जिससे कई सारी बीमारिया लग जाती है। जैसे -शुगर,बीपी ,सरदर्द आदि। इन बीमारियों की बचाव के लिए जरुरी है योगा , फल -सब्जिया , समय अनुसार भोजन का प्रयोग आदि जरूरी है 

About the author

Amisha Bharti

मैं अमीषा पेशन से एक हेल्थ ब्लॉगर हु. मैं अपने ब्लॉग में लोगों को बीमारियों से मुक्ति दिलाने के तरीकों के बारे में बताती हूँ. आप मेरे ब्लॉग से हेल्थ से संबधित सभी तरह की जानकारी पा सकते है.

Leave a Comment